September 2016

सार्क में अहम है भारत की भूमिका

भारत के बहिष्कार और कुछ और देशों के साथ आ जाने के बाद पाकिस्तान में होने वाला सार्क सम्मेलन रद्द हो गया है। अफगानिस्तान, बांग्लादेश व भूटान के सहयोग के साथ श्रीलंका तो यह तक कह चुका है कि भारत के बिना सम्मेलन का औचित्य ही नहीं है। जानिए www.gshindi.com की तरफ से आखिर इस संगठन में क्यों अहम है भारत की भूमिका।

Daily Updates

जानिए क्या होती है सर्जिकल स्ट्राइक, भारतीय सेना ने कब कब किये सर्जिकल स्ट्राइक ऑपरेशन

Why in news:

हाल  ही में  भारतीय सेना ने एलओसी में सर्जिकल स्ट्राइक कर कई आतंकियों को ढेर कर दिया। इसके साथ ही उनके समूहों को भारी नुकसान भी पहुंचाया। इस कार्रवाई को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय सेना ने अंजाम दिया है। आइये जानते हैं क्या होती है सर्जिकल स्ट्राइक...

=>>सर्जिकल स्ट्राइक :-
◆किसी भी सीमित क्षेत्र में सेना जब दुश्मनों या आतंकियों को नुकसान पहुंचाने के लिए सैन्य कार्रवाई करती है, तो उसे सर्जिकल स्ट्राइक कहते हैं।

भारत- नाइजीरिया संबंध ; भारतीय उपराष्ट्रपति की नाइजीरिया यात्रा

भारतीय उपराष्ट्रपति की नाइजीरिया यात्रा के दौरान नाइजीरिया के राष्ट्रपति मुहम्मदू बुहारी ने भारत से उद्योग, व्यापार, विज्ञान-तकनीक, ऊर्जा, न्यूक्लियर एनर्जी के साथ रक्षा क्षेत्र में सहयोग पर बल दिया है। 
- नाइजीरिया ने अपने देश को अन्न उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाने में भी भारत का सहयोग मांगा है।

सार्क को लेकर कभी भी गंभीर नहीं हुआ पाकिस्तान

1- पिछले हफ्ते इस्लामाबाद में सार्क शिखर बैठक की तैयारी के सिलसिले में सदस्य देशों की बिजली नियामक एजेंसियों की बैठक थी। बैठक में तय होना था कि सदस्य देशों के बीच बिजली का कारोबार किस तरह से हो। अधिकांश देश इस बारे में नियम बना चुके हैं। भारत और बांग्लादेश में तो बिजली कारोबार शुरू भी हो गया है। लेकिन पाकिस्तान की तरफ से कोई तैयारी नहीं हुई है।

ग्लोबल कॉम्पिटिटिव इकॉनमी इंडेक्स :- भारत 39वें पायदान पर

World Economic Forum की ओर से प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक भारत को 39वीं रैंक हासिल हुई है। दक्षिण एशियाई देशों की बात करें तो भारत के बाद श्रीलंका 71वें, भूटान 97वें, नेपाल 98वें और बांग्लादेश 106वें स्थान पर आया है। पाकिस्तान की रैंकिंग 122 वीं है जो कि दक्षिण एशिया में सबसे पीछे है।

◆ग्लोबल कॉम्पिटिटिवनेस रिपोर्ट के मुताबिक चीन 28वीं रैंक के साथ ब्रिक्स देशों में टॉप पर है।
◆ इस रैंकिंग की शुरुआत 2005 में की गई थी। इस रिपोर्ट को किसी देश की सांस्थानिक, नीतिगत और अन्य कारकों का अध्ययन करते हुए उत्पादकता के मापदंड पर आंका जाता है।