रिजर्व बैंक ने लगातार चौथी बार नीतिगत दरों को यथावत रखा है

#Jansatta

In news:

 

रिजर्व बैंक ने लगातार चौथी बार नीतिगत दरों को यथावत रखा है, यानी ताजा द्विमासिक समीक्षा के बाद रेपो रेट सवा छह फीसद और रिवर्स रेपो रेट छह फीसद पर कायम है।

Ø  नीतिगत दरों में कटौती न किए जाने पर जहां उद्योग जगत ने निराशा जताई है

Ø  रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा नीति (एमपीसी) का यह फैसला सरकार को भी नागवार गुजरा है।

भारतीय महिला बैंक का एसबीआई में मर्जर

★ भारत सरकार ने ऐलान किया है कि भारतीय स्टेट बैंक यानी एसबीआई के साथ भारतीय महिला बैंक के विलय को मंजूरी दे दी गयी है.

★ इसके पहले एसबीआई में उसके पांच सहयोगी बैंकों, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद औऱ स्टेट बैंक ऑफ मैसूर का विलय पहली अप्रैल से प्रभावी करने का सरकार ने ऐलान किया था.

India QR जारी, पूरा देश हो जाएगा कैशलेस

केंद्र सरकार द्वारा कैशलेस व्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए एक नई तकनीक तैयार की गई है। इसके माध्याम से अब लोग बिना किसी मुश्किल के पैसों का लेनदेन डिजिटल माध्यम से कर पाएंगे।

इलेक्ट्रानिक भुगतान क्षेत्र के लिये नियामक बनाने पर विचार

खबरों में

देश में डिजिटल लेनदेन के बढ़ते दौर में सरकार इस क्षेत्र के लिये एक अलग नियामक बनाने पर विचार कर रही है। नियामक देश में इलेक्ट्रानिक भुगतान को बेहतर बनाने के साथ साथ इसके लेनदेन शुल्कों का भी नियमन करेगा। 

अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र (IFSC) के लिये एकीकृत नियामक : RBI

खबरों में

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र :आईएफएससी: से जुड़े विवादों तथा अन्य मुद्दों के समाधान के लिये एकीकृत नियामक और वैश्विक स्तर का कानूनी मसौदा तैयार करने पर जोर दिया। 

हरित बांड (green bond )

  • ये किसी भी अन्य बौंड की ही तरह है जहां एक निकाय धन जुटाने के लिए निवेशकों के लिए ऋण साधन जारी करते हैं|
  • ग्रीन बौंड की पेशकश का लाभ 'हरित' परियोजनाओं के वित्त पोषण में उपयोग के लिए होता है और यही है जो इसे अन्य बौंड से अलग बनाता है. 
  • 'ग्रीन' बौंड और एक नियमित बौंड के बीच का मुख्य अंतर : green bond में  जारीकर्ता सार्वजनिक रूप से यह कहता है कि वह पर्यावरणीय लाभ जैसे अक्षय ऊर्जा, कम कार्बन परिवहन आदि जैसी 'हरित' परियोजनाओं, परिसंपत्तियों या व्यापारिक गतिविधियों के लिए पूंजी की उगाही कर रहा है. 
  • पहली बार विश्व ब