सैलरी और इंसुरेन्स की कॉन्ट्रैक्चुअल थ्योरी पर दो अर्थशास्त्रियों को नोबेल पुरस्कार

हार्वर्ड में प्रोफेसर ओलिवर हार्ट और मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के बेंट होम्स्ट्रॉम को संयुक्त रूप से इकोनॉमिक्स का नोबेल अवॉर्ड दिया जाएगा।
- हार्ट और होम्स्ट्रॉम ने कॉन्ट्रैक्चुअल डिजाइन के क्षेत्र में एक फ्रेमवर्क डेवलप किया, जिसके मुताबिक किसी कंपनी के एग्जीक्यूटिव्स को परफॉर्मेंस बेस्ड सैलरी कैसे मिलती है, इन्श्योरेंस में किस तरह से प्रीमियम काटा जाता है, यह तय किया जा सकता है। दोनों ने पब्लिक सेक्टर के प्राइवेटाइजेशन पर भी काम किया। 

=>>क्‍या है कॉन्‍ट्रैक्‍ट थ्‍योरी?
- कॉन्ट्रैक्‍ट थ्‍योरी किसी को कॉन्‍ट्रैक्‍ट के डिजाइन को समझने में मदद करती है। 
- इस थ्‍यो‍री का टारगेट इस बात को विस्तार से समझाना है कि क्‍यों कॉन्‍ट्रैक्‍ट्स में कई तरह के फॉर्म्‍स और डिजाइन होते हैं। 
- इसका दूसरा मकसद इस बात का पता लगाना है कि कैसे कोई एक बेहतर कॉन्‍ट्रैक्‍ट तैयार कर सकता है। 
- नोबेल प्राइज एकेडमी के मुताबिक, इस थ्‍योरी की वजह से एक बेहतर इंस्टीट्यूट तैयार करने में काफी मदद मिलती है।