डॉ. एम बालमुरलीकृष्ण

  • कर्नाटक संगीतज्ञ
  • डॉ. बालमुरलीकृष्ण ने तेलुगु, संस्कृत, कन्नड और तमिल जैसी विभिन्न भाषाओं में खूबसूरत रचनाओं के जरिए लगभग सात दशकों तक देश और विदेश के संगीत प्रेमियों को मंत्रमुग्ध किया।
  • वे अपनी प्रयोग करने की आदत और रचनात्मकता के लिए जाने जाते थे।
  • उन्होंने कर्नाटक संगीत की समृद्ध पारम्परिकता से छेड़छाड़ किए बिना ताल प्रणाली और कर्नाटक संगीत प्रणाली में परिवर्तन किया।
  •  वे संगीत चिकित्सा के क्षेत्र में व्यापक अनुसंधान करने में भी शामिल थे।