14वें प्रवासी भारतीय सम्‍मेलन का आयोजन ‘‘प्रवासी भारतीयों के साथ पुनर्परिभाषित संबंध’’ विषय पर कर्नाटक के साथ साझेदारी में बेंगलुरु में

  • प्रथम प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन नई दिल्‍ली में जनवरी 2003 में किया गया था।
  • अब तक प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलनों के 13 संस्‍करणों का आयोजन हो चुका है।
  • इनमें से पिछले का आयोजन दक्षिण अफ्रीका से महात्‍मा गांधी की वापसी की 100वीं वर्षगांठ के साथ जनवरी, 2015 में गुजरात के गांधी नगर में किया गया था।
  • प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन आमतौर पर दिल्‍ली से बाहर के शहरों में उन राज्‍यों की साझेदारी के साथ किया जाता है जिनमें दिल्‍ली से बाहर प्रवासी भारतीयों की बड़ी जनसंख्‍या है।
  • प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलनों में पारंपरिक रूप से बड़ी संख्‍या में प्रवासी भारतीयों की भागीदारी देखी जाती है, हालाकि यह सम्‍मेलन बिना किसी महत्‍वपूर्ण परिणामों के एक पुनरावृत्तीय सम्‍मेलन बन गया था इसलिए इसलिए प्रवासी भारतीय दिवस के प्रारूप को नया रूप दिया गया है। इसलिए सरकार ने यह निर्णय किया है कि प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलन का आयोजन दो वर्ष में एक बार किया जायेगा।
  • 14वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलन का आयोजन ‘‘प्रवासी भारतीयों के साथ पुनर्परिभाषित संबंध’’ विषय पर कर्नाटक के साथ साझेदारी में बेंगलुरु में 7 से 9 जनवरी 2017 को आयोजित होगा

प्रवासी भारतीय :

वर्तमान में लगभग 3.12 करोड़ अर्थात करीब 31.2 मिलियन प्रवासी भारतीय समूचे विश्‍व में बसे हुए हैं जिनमें से 1.34 करोड़ अर्थात 13.4 मिलियन व्‍यक्ति भारतीय मूल के हैं और 1.78 करोड़ अर्थात 17.8 मिलियन अनिवासी भारतीय हैं।

Download this article as PDF by sharing it

Thanks for sharing, PDF file ready to download now

Sorry, in order to download PDF, you need to share it

Share Download
Tags