क्या है वर्चुअल आईडी जो एक मार्च से आधार की जगह इस्तेमाल कर सकते हैं?

To check AADHAR misuse and for security Virtual ID announced by UIDAI
In news
    आधार से निजी जानकारियां लीक होने की बहस के बीच भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने वर्चुअल आईडी लाने का ऐलान किया है. 
    Who can use: आधार कार्ड रखने वाला कोई भी शख्स इसे यूआईडीएआई की वेबसाइट पर जाकर बना यानी जेनरेट कर सकता है और इसका इस्तेमाल सिम वेरिफिकेशन जैसे तमाम कामों के लिए कर सकता है.
     इस आईडी में नाम, पते और फोटो जैसी कुछ बुनियादी जानकारियां ही होंगी जो मोबाइल से लेकर रसोई गैस तक तमाम सेवाएं मुहैया कराने वाली कंपनियों को सत्यापन के लिए चाहिए होती हैं. यानी अब इन कामों के लिए 12 अंकों वाला आधार देने की बाध्यता नहीं रहेगी.
More about Virtual ID
    यह वर्चुअल आईडी 16 डिजिट की एक संख्या होगी. अधिकारियों के मुताबिक कोई कितनी भी आईडी जेनरेट कर सकता है.
     नई वर्चुअल आईडी जेनरेट होने पर पुरानी वाली खत्म हो जाएगी. एक मार्च 2018 से इसे स्वीकार किया जाने लगेगा. 
    एक जून 2018 से सभी कंपनियों और विभागों के लिए यह अनिवार्य हो जाएगा कि वे अपने यूजरों से यह वर्चुअल आईडी भी स्वीकार करें. जो इस नई व्यवस्था का पालन नहीं करेंगे उन्हें सरकार की तरफ से वित्तीय प्रोत्साहनों के मोर्चे पर नुकसान झेलना पड़ेगा.
 

Download this article as PDF by sharing it

Thanks for sharing, PDF file ready to download now

Sorry, in order to download PDF, you need to share it

Share Download
Tags