PIB (Press Information Bureau)

UPSC / State PSC की तैयारी करने वाले उम्मीदवारों को PIB की जरुरत क्यों ?

भारत सरकार के विभिन्न अंगों यथा – विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका से सम्बंधित गतिविधियों की प्रामाणिक सूचना देने के लिए सरकार द्वारा PIB की स्थापना की गयी.

भारत सरकार की विभिन्न नीतियों, विधिक- कानूनों, उसके क्रिया- कलापों, पडोसी एवं अन्य देशों के साथ भारत के संबंधों और समझौतों, नयी- नयी पहलों को PIB के माध्यम से जनता तक पहुँचाया जाता है.

सिविल सेवकों की भर्ती के लिए आयोजित होने वाली सिविल सेवा की विभिन्न परीक्षाओं जैसे UPSC और स्टेट PCS द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय परीक्षाओं में इन सूचनाओं का महत्त्व अध्याधिक बढ़ जाता है.

ऐसे में सिविल सेवा परीक्षाओं की तैयारी में PIB के महत्त्व को नकारा नहीं जा सकता. #GSHindi आप सभी सिविल सेवा के अभ्यर्थियों के लिए PIB के रूप में एक नया सेक्शन शुरू करने जा रहा है. यहाँ पर आपको PIB के महत्वपूर्ण आर्टिकल के अपडेटस रेगूलर बेस पर प्राप्त होते रहेंगे. तो PIB के updates पाने के लिए हमसे जुड़े रहिये.


 

पेसेफिक कम्‍प्‍यूटर इमरजेंसी रिस्‍पान्‍स टीम (एपीसीईआरटी)

  • इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तत्‍वावधान में इंडियन कम्‍प्‍यूटर इमरजेंसी रिस्‍पान्‍स टीम (सीईआरटी-इन) 12 से 15 नवम्‍बर 2017 तक नई दिल्‍ली में एशिया पेसेफिक कम्‍प्‍यूटर इमरजेंसी रिस्‍पान्‍स टीम (एपीसीईआरटी)

भारत युवा विकास सूचकांक एवं रिपोर्ट 2017

  • भारत युवा विकास सूचकांक 2017 तैयार करने का उद्देश्य राज्यों में युवाओं के विकास की स्थिति पर करीबी नज़र रखना है। इस सूचकांक के जरिये लचर और बेहतर प्रदर्शन करने वाले राज्यों की पहचान आसानी से हो सकेगी। राज्यों में युवाओं के विक

भारत का द्वितीय प्रौद्योगिकी एवं नवाचार सहायता केन्द्र (टीआईएससी) चेन्नई स्थित अन्ना विश्वविद्यालय में स्थापित

  • भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) ने विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (विपो) के टीआईएससी कार्यक्रम के तहत चेन्नई स्थित अन्ना विश्वविद्यालय के बौद्धिक संपदा अधिकार संगठन (सीआईपीआर) में भारत का द्वितीय प्रौद्योगिकी एवं नवाचार सहायता केन्द्र (टीआईएससी) की स्थापना के लिए अन्ना विश्वविद्यालय के साथ एक संस्थागत समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

तटीय स्‍थान योजना

  • जहाजरानी मंत्रालय ने सागरमाला कार्यक्रम की तटीय स्‍थान योजना के तहत वित्‍तीय सहायता के लिए परियोजनाओं के लिए 2302 करोड़ रुपये के बराबर की परियोजनाएं आंरभ की हैं।

दीनदयाल ‘स्‍पर्श’ योजना 


     डाक टिकट संग्रह को प्रोत्‍साहन देने के लिए दीनदयाल स्‍पर्श योजना का शुभारंभ 
     ‘स्‍पर्श’ योजना के तहत कक्षा VI से IX तक उन बच्‍चों को वार्षिक तौर पर छात्रवृत्ति दी जाएगी, जिनका शैक्षणिक परिणाम अच्‍छा है और जिन्‍होंने डाक टिकट संग्रह को एक रूचि के रूप में चुना है। 
    सभी डाक सर्किलों में आयोजित होने वाली एक प्रतियोगी प्रक्रिया के आधार पर डाक टिकट संग्रह में रूचि रखने वाले छात्रों का चयन किया जाएगा। 
    योजना के अंतर्गत 920 छात्रवृत्तियां देने का प्रस्‍ताव है।