ज्यादातर घरों में बुजुर्गों का उत्पीड़न : सर्वे

- एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है कि बुजुर्ग व्यक्तियों के साथ उनके अपने बुरा बर्ताव करते हैं भले ही उनकी आर्थिक, सामाजिक हालत, स्वास्थ्य स्थिति और परिवार में उनकी भूमिका जो भी हो।

- 15 जून को संयुक्त राष्ट्र बुजुर्ग दुर्व्यवहार दिवस के मौके पर गैर सरकारी संस्था ऐजवेल फाउंडेशन ने भारतीय घरों में बुजुर्गों के साथ होती बदसुलूकी की वजह और इसका प्रभाव समझने के लिए अपने स्वयंसेवकों के माध्यम से भासमूचे भारत के 323 जिलों के 3400 से ज्यादा बुजुर्गों से बातचीत की। इसका मुख्य केंद्र बुजुर्ग लोगों की जरूरत और अधिकारों पर था।

तेजी से बढ़ रही है देश में बुजुर्गो की संख्या

  • देश की कुल आबादी में बुजुर्गो की हिस्सेदारी लगातार बढ़ रही है।
  • 2011 की जनगणना के हिसाब से देश की कुल आबादी में बुजुर्गो की हिस्सेदारी 8.6 फीसद हो गई है। 2001 में यह हिस्सा 7.4 फीसद था।
  •  इसमे भी देश में बुजुर्ग महिलाओं की संख्या पुरुषों के मुकाबले तेजी से बढ़ रही है।
  • सरकार की एक सर्वे रिपोर्ट बताती है कि चाहे शहर हो या गांव, अब उम्र को लेकर बहुत अधिक अंतर नहीं रह गया है। दोनों ही इलाकों में बुजुर्गो की संख्या बढ़ने की रफ्तार लगभग समान है।
  • रिपोर्ट के मुताबिक 2001 से 2011 के दशक में बुजुर्गों की आबादी 36 फीसद क

बुजुर्गों की देखभाल जरूरी

- देश में बुजुर्ग व्यक्तियों की संख्या 10 करोड़ हैं। 2030 तक इसके बढ़कर 20 करोड़ होने की संभावना है। मेडिकल साइंस में प्रगति और दवाइयों तक आसानी से उपलब्धता के चलते यह संख्या वक्त गुजरने के साथ बढ़ेगी। हालांकि इसके बावजूद यह नहीं कहा जा सकता कि हमारे देश के वृद्ध स्वस्थ जीवन भी गुजार रहे हैं।