September 1 Hindi News Paper Summery

समाचार पत्र सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में सबसे महत्वपूर्ण स्रोत है ,इस स्रोत्त से हम अपने लिए परिक्षापयोगी अध्ययन सामग्री किस तरह निकालते है यह अत्यंत विश्लेषणात्मक विषय वस्तु है क्योंकि हमारे पास सीमित समय होता है |यहाँ दूसरी समस्या आती है हमारा माध्यम हिंदी होना ,हम हमेशा असमंजस में होते है की केवल अंग्रेजी के समाचार पत्र से ही हम अपने लिए परीक्षापयोगी सामग्री ले सकते है जबकि हमारा नजरिया यह हो की हम अपने प्रश्न पत्र के हिसाब से हर खबर और उसके इर्दगिर्द की चीजो को निकाल सके | ऐसा हम अपने द्वारा पढ़े जा रहे हिंदी के समाचार पत्र से भी कर सकते है और अपने अध्ययन को तार्किकता प्रदान कर सकते है | इसी कड़ी में THE CORE IAS टीम द्वारा विभिन्न हिंदी समाचार पत्रों से विषय वस्तु और प्रश्न पत्र के अनुसार खबरों का संक्षिप्त संचयन और उनके प्रयोग को दर्शाते हुए आपके साथ हम साझा कर रहे है |
Download Link: 1st September Newspaper http://thecoreias.com/current-affairs/ 
आगे निरंतर इस कड़ी को अपने TELEGRAM CHANNEL @ https://t.me/THECOREIAS  पर साझा करेंगे |

Download File by clicking this link

DAINIK JAGRAN: 1 सितम्बर, 2018

1. 2021  में आम जनगणना के दौरान अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के आंकड़े अलग से जुटाए जाएंगे

  • मंडल कमीशन के आधार पर ओबीसी को 27 फीसद का आरक्षण दे दिया गया, लेकिन कमीशन की रिपोर्ट 1931 की जनगणना के आंकड़ों पर आधारित थी। वहीं 2006 में ओबीसी की जनसंख्या का अंदाजा लगाने के लिए एनएसएसओ सर्वे किया गया था, जिसके अनुसार देश में कुल जनसंख्या का 41 फीसद ओबीसी है।
  • सरकार पिछड़ी जातियों को देश के विकास में भागीदार बनाने के प्रति गंभीर है। सरकार इस प्रतिबद्धता का परिचय पिछले महीने ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देकर भी दे चुकी है।
  • जनगणना में अत्याधुनिक तकनीक का सहारा लेने का निर्देश, ताकि आंकड़े तीन साल के भीतर जारी किए जा सकें। जनगणना के त्वरित आंकड़ों के लिए 25 लाख लोगों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। पहले जनगणना के आंकड़े सार्वजनिक होने में आठ साल तक का वक्त लग जाता था।

2.बिम्सटेक के मंच से आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को परोक्ष तौर पर नसीहत,

  • इसमें कहा गया है कि किसी भी देश को किसी भी तरह के आतंकवाद का ना तो समर्थन करना चाहिए और ना ही सीमा पार आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देना चाहिए।

Ø दक्षिण एशिया में पाकिस्तान मालदीव को छोड़कर अन्य सभी देश (भारत, नेपाल, भूटान, बांग्लादेश, श्रीलंका, थाइलैंड म्यांमार) इसके सदस्य,

Ø बे ऑफ बंगाल इनिशिएटिव फॉर मल्टी सेक्टोरल टेक्नीकल एंड इकोनामिक कोऑपरेशन (बिम्सटेक) की स्थापना वर्ष 1997 में

Ø इस संगठन के अधिकांश देश बंगाल की खाड़ी के आसपास हैं और इस समुद्री क्षेत्र की अहमियत अमेरिका की हिंद-प्रशांत महासागर में बढ़ रही दिलचस्पी की वजह से बढ़ गई है। भारत भी चाहता है कि सार्क की जगह यह संगठन ही तेजी से आगे बढ़े।

Ø इनमें यह सहमति भी बनी है कि हर देश अपने स्तर पर इसे क्षेत्रीय अन्य अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी खास तवज्जो दिलाएंगे।

Ø सदस्य देशों के मध्य साझा ट्रांसपोर्ट संचार व्यवस्था को लागू करने के लिए सभी देशों के बीच राजमार्गो, रेलवे नेटवर्को, समुद्री मार्गो का साझा नेटवर्क तैयार किया जाएगा। इसके लिए वर्ष 2025 का मास्टर प्लान बनाया जाएगा। माना जा रहा है कि यह मास्टर प्लान चीन की कनेक्टिविटी परियोजना (बीआरआइ) का जवाब होगा।

Ø बिम्सटेक देशों ने मुक्त व्यापार समझौते को लेकर भी सहमति बनाने का निर्णय लिया |

3.गरीबों को मुफ्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की योजना आयुष्मान भारत

Ø केंद्र सरकार 25 सितंबर को इसे प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के नाम से शुरू करेगी।

Ø केंद्र सरकार ने वर्ष 2011 में कराई गई सामाजिक, आर्थिक और जातिगत जनगणना के आधार पर स्वास्थ्य बीमा देने का दिशानिर्देश,

Ø दिल्ली सरकार द्वारा समझौते पर हस्ताक्षर नहीं |

4.मौसम विभाग के मानसून पूर्व किए गए पूर्वानुमान से परे दिल्ली एनसीआर, हरियाणा, चंडीगढ़ और पंजाब में इस बार 23 फीसद तक कम बारिश हुई

Ø इसके पीछे एक वजह तो यह है कि यहां तक आते-आते मानसून टर्फ के साथ हवा भी थोड़ी कमजोर पड़ जाती है।

Ø  साथ-ही राज्यों में बढ़ रही निर्माण गतिविधियां, घटती हरियाली और किसी प्रमुख नदी-नहर का नहीं होना भी इसकी वजह है।

5.ऑस्ट्रेलिया में 25 देशों के साथ अभ्यास करेगी भारतीय नौसेना

Use: (Paper II: International Relation)

दक्षिण चीन सागर और प्रशांत महासागर में चार महीने तक तैनात रहने के बाद भारतीय नौसेना का स्टील्थ युद्धपोत आइएनएस सह्याद्री आस्ट्रेलिया के नौसैनिक बंदरगाह डार्विन पहुंच गया है। यहां वह बहुराष्ट्रीय समुद्री अभ्यास ककाडू 2018 में

Read [email protected]

Download File by clicking this link

Download this article as PDF by sharing it

Thanks for sharing, PDF file ready to download now

Sorry, in order to download PDF, you need to share it

Share Download