असुरक्षित CYBER तंत्र

#Editorial_Jansatta

क्या पूरी तरह सुरक्षित तंत्र के बिना इंटरनेट पर निर्भरता एक उचित व्यवस्था है?

पिछले कुछ महीनों के दौरान और खासकर नोटबंदी के बाद भारत सरकार की ओर से सबसे ज्यादा इस बात की वकालत की गई कि लोग नकदी रहित लेनदेन की ओर कदम बढ़ाएं। लेकिन बीते तीन-चार दिनों में दुनिया भर में जिस तरह साइबर हमले का असर देखा गया, उससे यह सवाल उठा है कि क्या पूरी तरह सुरक्षित तंत्र के बिना इंटरनेट पर निर्भरता एक उचित व्यवस्था है?

रैन्‍समवेयर साइबर हमला

बीते शुक्रवार को हुए सबसे बड़े साइबर हमले (रैनसमवेयर) के बाद सोमवार को दूसरा बड़ा हमला हो सकता है~इस साइबर हमले से 150 से अधिक देशों में 2,00,000 इकाइयां प्रभावित हुई हैं। माइक्रोसॉफ्ट के एक्सपी जैसे पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले कंप्यूटर इस मालवेयर से सर्वाधिक प्रभावित हुए हैं। इसके प्रभावित होते ही कंप्यूटर की सभी फाइल लॉक हो जा रही हैं। इसकी पहचान सबसे पहले अमेरिकी खुफिया विभाग ने की।

स्पाइडर मिसाइल : सतह से हवा में मार करने में सक्षम इस्राइल मिसाइल

स्पाइडर मिसाइल

  • भारत ने कम दूरी की त्वरित प्रतिक्रिया मिसाइल परीक्षणों की श्रृंखला के तहत सतह से हवा में मार करने में सक्षम स्पाइडर मिसाइल  का परीक्षण किया. और इसने चालक रहित विमान को लक्षित किया.
  • वायु रक्षा प्रणाली को और मजबूत करने के लिए अत्याधुनिक हथियार प्रणाली के विभिन्न मापदंडों की पुष्टि करने के लिए यह परीक्षण किया गया था.

स्पाइडर मिसाइल की विशेषताएं -

दक्षिण एशिया उपग्रह जीसैट-9

दक्षिण एशिया उपग्रह ‘जीसैट-9’ के सफल लॉन्च के साथ भारत ने अंतरिक्ष कूटनीति की दिशा में कदम बढ़ा दिया है| इसे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से छोड़ा गया. इसके लॉन्च में 49 मीटर लंबे और 450 टन वजनी जीएसएलवी रॉकेट का इस्तेमाल किया गया. इस उपग्रह को बनाने से लेकर लॉन्च तक कुल 450 करोड़ रुपये का खर्च आया है, जिसे भारत ने उठाया है.

Who will share the data from this satellite

मोबाइल टावर विकिरण की माप बताएगा तरंग संचार पोर्टल

Ø  दूरसंचार विभाग ने मोबाइल टावर से निकलने वाले विकिरण का पता लगा के लिए ‘तरंग संचार’ पोर्टल बनाया है

Ø  यह पोर्टल मोबाइल टावर से निकलने वाली तरंगों के बारे में व्याप्त मिथ्या धारणाओं को तोड़ने का काम करेगा।

Ø  यह ग्राहकों को एक माउस के क्लिक पर किसी क्षेत्र में कार्यरत तमाम टावरों के बारे में जानकारी देगा। यह बताएगा कि किसी खास टावर से निकलने वाली तरंगें सरकार की ओर से तय मानकों के अनुरूप हैं या नहीं। 

Background

नौसेना के लिए ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल का किया गया सफल परीक्षण

  • भारत ने युद्धपोत से जमीन पर मार करने वाली ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया है। इसके साथ ही नौसेना को समुद्र से दुश्मन के इलाके में अंदर तक मार करने की क्षमता हासिल हो गई है।
  •  सुपरसोनिक लैंड क्रूज मिसाइल के सफल परीक्षण के साथ भारत चुनिंदा देशों के विशिष्ट क्लब में शामिल हो गया है।
  • भारत से पहले केवल अमेरिका, रूस, चीन और ब्रिटेन के पास ही समुद्र से जमीन पर मार करने की लैंड क्रूज सुपरसोनिक मिसाइल क्षमता रही है।
  • इस मिसाइल का परीक्षण बंगाल की खाड़ी में किया गया। लंबी दूरी की ब्रह्मोस मिसाइल का यह संस्करण भारत और रूस ने मिलकर विकसित किया है। ब्र

ऑपरेशन मेघदूत: 1984 में सियाचिन पर कब्जा करने के लिए हुआ ऑपरेशन

 33 साल पहले भारतीय सेना के इस बेहद अहम ऑपरेशन को शौर्य और पराक्रम के मिसाल के तौर पर देखा जाता है. वर्ष 1984 में सियाचिन ग्लैशियर को फतह करने के उद्देश्य से इस ऑपरेशन को लॉन्च किया गया था.

  • सियाचिन में भारतीय फौजों की किलेबंदी इतनी मजबूत है कि पाकिस्तान चाह कर भी इसमें सेंध नहीं लगा सकता. दरअसल, ये सफलता है 1984 के उस मिशन मेघदूत की, जिसे भारतीय सेना ने सियाचिन पर कब्जे के लिए शुरू किया था.

भारतीय सेना का अहम ऑपरेशन

जानें अफगनिस्तान पर गिराए गए 'मदर ऑफ ऑल बम' के बारे में....

★ अमेरिका ने पूर्वी अफगानिस्तान में एक विशाल बम गिराया है. अमेरिका ने इस्लामिक स्टेट आतंकियों के ठिकानों पर बम गिराया.

★ इस विशाल बम का नाम GBU-43 बताया जा रहा है. इस बम का निर्माण अमेरिकी सेना के अधिकारी अलबर्ट एल. वीमोर्ट्स ने किया था.

भारत का इजरायल से अब तक का सबसे बड़ा रक्षा समझौता, मिसाइल डिफेंस सिस्टम खरीदेगा

★ इजरायल ने भारत के साथ 2 बिलियन डॉलर (करीब 12 हजार करोड़ रुपए) की डिफेंस डील पर साइन किए हैं।
★ इसके तहत इजरायल भारत को मिसाइल डिफेंस सिस्टम देगा। इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज (IAI) ने इस बात की जानकारी दी।

★ इसके जरिए दुश्मनों के एयरक्राफ्ट, मिसाइल और ड्रोन्स को 70 किमी के दायरे में मार गिराया जा सकता है।
 इस डील का मकसद भारतीय प्रधानमंत्री के इजरायल दौरे से पहले दोनों देशों के बीच सामरिक रिश्तों को मजबूती देना है।