E-cigarattes

 ई सिगरेट या वाष्पीकृत सिगरेट : यह एक बैटरी चालित उपकरण है जो निकोटीन या गैर-निकोटीन के वाष्पीकृत होने वाले घोल की सांस के साथ सेवन की जाने वाली खुराक प्रदान करता है | आइए  जानते है इसके बारे में :

सैन्य बलों की युद्ध क्षमता बढ़ाने के शेकटकर समिति के सुझाव

- शेकटकर समिति : सरकार द्वारा सैन्य बलों की युद्ध क्षमता बढ़ाने और रक्षा व्यय को पुनः संतुलित करने के लिए लेफ्टिनेंट जनरल डीबी शेकटकर की अध्यक्षता में समिति का गठन किया था।

- समिति यह स्पष्ट कर चुकी है कि यदि अगले पांच वर्ष में उसकी अधिकतर सिफारिशें लागू कर दी जाती हैं तो सरकार अपने वर्तमान खर्च में से 25,000 करोड़ रुपये तक की बचत कर सकती है। इसका इस्तेमाल भारतीय सैन्य बलों की युद्ध क्षमता बढ़ाने में होगा।

- समिति ने भविष्य के संभावित खतरों को भांपकर सिफारिश की हैं।

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद और चीफ ऑफ स्टाफ समिति का स्थायी चेयरमैन: सैन्य बलों में होगा एक और शीर्ष पद

- भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में होने वाली सालाना संयुक्त कमांडर्स कांफ्रेंस में सशस्त्र बलों के लिए जनरल का एक नया पद सृजित जायेगा। राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद और रक्षा मंत्रालय की ओर से चीफ ऑफ स्टाफ समिति के स्थायी चेयरमैन का प्रस्ताव तैयार किया गया है।

- यह पद सेना, नौसेना और वायु सेना के प्रमुख के बराबर होगा।  रक्षा विशेषज्ञों की मानें तो यह कदम देश में उच्च रक्षा प्रबंधन में सुधार की दिशा में अहम कदम साबित होगा।

'गूगल इंटरनेट साथी' सच में भारत को बना रहा है डिजिटल

- विश्व आर्थिक मंच की की ग्लोबल जेंडर गैप इंडेक्स 2016 के अनुसार, आइसलैंड, फिनलैंड, नॉर्वे और स्वीडन में लैंगिक समानता बराबर हैं।

- भारत में ऐसा नहीं है और इस सूची में वह 87 वें स्थान पर है। केन्या, बांग्लादेश और ब्राजील जैसे देशों ने भारत को पीछे छोड़ दिया है।

- मगर, भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट आबादी वाला देश है, जहां डिजिटल लैंगिक अंतर कम हो रहा है।

"बीजीआर-34" : आयुर्वेद के प्राचीन ज्ञान के आधार पर तैयार मधुमेह की देसी दवा क्लीनिकल ट्रायल में सफल

- केंद्र सरकार के सीएसआइआर) प्रयोगशालाओं में आयुर्वेद के प्राचीन ज्ञान के आधार पर तैयार की गई मधुमेह (डायबिटीज) की देसी दवा ने वैज्ञानिक परीक्षा भी पास कर ली है।
- राष्ट्रीय क्लीनिकल ट्रायल रजिस्ट्री पर "बीजीआर-34" नाम की इस दवा के सफल परीक्षण के आंकड़े प्रकाशित किए गए हैं। इस दवा को वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआइआर) की प्रयोगशालाओं में विकसित किया गया है।

हाइपरलूप तकनीक भारत में ; चेन्‍नई से बेंगलुरू के बीच शुरू होगी

Ø  चेन्‍नई से बेंगलुरू की सड़क मार्ग से दूरी 345 किलोमीटर है। अगर आप बस से इस मार्ग पर सफर करेंगे तो आपको कम से कम 6 घंटे 30 का मिनट का समय लगेगा। वहीं ट्रेन से यह समय 6 घंटे है। अगर आप हवाई जहाज से यह सफर करेंगे तो 50 मिनट का समय लगेगा

Ø  लेकिन एक नई परिवहन प्रणाली से यह समय घटकर केवल 30 मिनट रह जाएगा।

Ø  अमेरिकी आंत्रप्रन्‍योर तथा आविष्‍कारक एलन मस्‍क ने हाइपरलूप नाम की परिवहन प्रणाली का ईजाद किया है। इसकी स्‍पीड 1200 किलोमीटर प्रतिघंटा है तथा यह कॉन्‍क्रीट के पिलर्स पर बनाई गई ट्यूब्‍स के अंदर चलने वाला खास वाहन है।

भारत से फैले सुपरबग पर किसी ऐंटीबायॉटिक का असर नहीं

★अमेरिका में एक ऐसे भारतीय सुपरबग का पता चला है जिस पर किसी भी ऐंटीबायॉटिक का असर नहीं होता। डॉक्टरों ने इसे न्यू डेली मेटालो-बीटा-लेक्टामेस (NDM) नाम दिया है।

=>क्या है इसकी कहानी:-
★70 साल की एक संक्रमित मरीज की मौत के बाद डॉक्टरों ने इसका पता लगाया है।

★हाल ही में क 70 वर्षीय अमेरिकी महिला की मौत हुई। यह महिला दो साल पहले अपने थाइ बोन फ्रैक्चर का इलाज कराने दिल्ली आई थी।

"इंडियन नेवी में शामिल हुआ सबमरीन 'खांदेरी', कई गुना बढ़ी भारत की ताकत"

इंडियन नेवी की ताकत को और बढ़ाने के लिए अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस'खांदेरी सबमरीन'को नेवी में शामिल कर लिया गया है। 
★नेवी में शामिल करने के बाद इसके कई ट्रायल लिए जाएंगे फिर नौसेना के वार जोन में इसे जगह दी जाएगी।

=> शिवाजी के किले से मिला नाम...

★इसका निर्माण मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड(एमडीएल)ने फ्रांस के मैसर्स डीसीएनसी के साथ मिलकर किया है।
★पनडुब्बी'खांदेरी'का नाम छत्रपति शिवाजी महाराज के द्वीप किले खांदेरी के नाम पर रखा गया है। 
★किले ने 17 वीं सदी में समुद्र में मराठों के वर्चस्व को सुनिश्तित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

आइएनएस खांदेरी/ खंडेरी

  • स्कॉर्पीन क्लास की दूसरी पनडुब्बी आईएनएस खंडेरी
  • स्कॉर्पीन क्लास पनडुब्बियां डीजल और बिजली से चलती हैं।
  • मुख्य तौर पर इसका इस्तेमाल जंग में हमले के लिए होता है।
  • आईएनएस खंडेरी में दुश्मनों की नजर से बचने के लिए स्टील्थ फीचर है।
  •  यह दुश्मन पर प्रीसेशन गाइडेड मिसाइल के जरिए सटीक और घातक हमला कर सकता है।
  • हमले करने के लिए इसमें पारंपरिक टारपीडो के अलावा ट्यूब लॉन्च एंटी शिप मिसाइल्स हैं, जिसे पानी के अंदर या सतह से दागा जा सकता है।
  • भारत दुनिया के उन चुनिंदा देशों में शामिल है जो परंपरागत पनडुब्बियों का

रेल एकॉस्टिक सेंसिंग बेस्ड सेफ्टी तकनीक

Background:

हाल में कानपुर के समीप हुए दो रेल हादसों से सबक लेते हुए रेल प्रबंधन अपनी परिचालन व्यवस्था को सुरक्षित करने के तहत भारतीय रेल एकॉस्टिक सेंसिंग बेस्ड सेफ्टी तकनीक अपनाने जा रही है।

क्या है यह :