भारत में आपदा प्रबंधन : कंपट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल (कैग) की रिपोर्ट

=>​भारत में संभावनाएं ज्यादा 
- भारत, दुनिया के उन देशों में शामिल है, जहां प्राकृतिक आपदाओं का खतरा यहां की 1.2 अरब आबादी पर मंडराता रहता है। देश के कई इलाके तो इस लिहाज से बेहद संवेदनशील हैं, इसके बावजूद देश का आपदा प्रबंधन बेहद खराब स्थिति में है।

- आपदा प्रबंधन पर आई कंपट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल (कैग) की एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है। रिपोर्ट के मुताबिक 2006 में नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (एनडीएमए) का गठन किया गया था, लेकिन इसके पास न तो उचित सूचनाएं होती हैं, न ही एक्शन कंट्रोल।

संयुक्त राष्ट्र रिपोर्ट : जलवायु परिवर्तन से होगा जलप्रलय, खतरे में करोड़ों भारतीय (UN Report)

  •  संयुक्त राष्ट्र की पर्यावरण रिपोर्ट में आगाह किया गया है कि समुद्र तल में इजाफा होने से 2050 तक तकरीबन 4 करोड़ भारतीयों को खतरा पैदा हो सकता है जबकि तेज शहरीकरण एवं आर्थिक वृद्धि के चलते तटीय बाढ

विश्व बैंक: जलवायु परिवर्तन से जल संकट बढ़ रहा है और जल संकट के चलते बढेगा विस्थापन और हिंसा; आर्थिक संवृद्धि दांव पर

विश्व बैंक ने चेतावनी दी है कि जल संकट के चलते देशों की आर्थिक वृद्धि प्रभावित हो सकती है, लोगों का विस्थापन बढ़ सकता है और यह भारत समेत पूरे विश्व में संघर्ष की समस्याएं खड़ी कर सकता है, जहां विभिन्न क्षेत्रों में लोग पानी की कमी से जूझ रहे हैं।

★अंतरराष्ट्रीय वित्तीय निकाय का कहना है कि जलवायु परिवर्तन से जल संकट बढ़ रहा है।