पूरे विश्व में प्रदूषण से होने वाली असामायिक मृत्यु के संदर्भ में भारत पहले स्थान

According to a report by The Lancet Commission on pollution and health With 2.51 million deaths in 2015, India has been ranked No. 1 in pollution related deaths,
    प्रतिष्ठित जर्नल लैंसेट के ताजा अंक में प्रकाशित एक अध्ययन में बताया गया है कि वर्ष 2015 के दौरान पूरे विश्व में 90 लाख से अधिक व्यक्तियों की असामयिक मृत्यु केवल प्रदूषण के कारण हुई, 

शहर की समस्या और ग्रामीण विकास

प्रत्येक व्यक्ति न केवल एक परिवार से अपितु समुदाय से भी संबंध रखता है। समुदाय की दो विशेषता मानी गई है एक निश्चित भौगोलिक क्षेत्र एवं इसके सदस्यों के बीच ' हम की भावना ' गाँव और शहर समुदाय के दो रूप हैं। समुदाय के सदस्य सामान्य रूप से इसमें स्थायी रूप से निवास करते है।समुदाय का भाव अपने पास-पड़ोस से आरम्भ होकर कुछ अंश तक 'हम-भावना' से सामाजिक वर्ग तक फैलता है। किसी भी संस्कृति की पूर्ण अभिव्यक्ति समुदायों के अंतर्गत ही होती है।

आखिर पर्यावरण इतना मायने क्यों रखता है?

Environment is important for human survival and i needs to be made part of curriculum
#Business_Standard
करीब दो दशक से भी ज्यादा वक्त हो गया जब सर्वोच्च न्यायालय ने सरकार को निर्देश दिया था कि वह देश भर के कॉलेजों में पर्यावरण को एक अनिवार्य विषय बनाए। काफी प्रयासों के बाद विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने इस पाठ्यक्रम के लिए व्यापक विषय सूची तैयार की। स्नातक स्तर के अध्ययन के लिए इसे अनिवार्य बनाया गया लेकिन छात्रों के कुछ पाठ्यक्रम में इसकी महत्ता काफी कम रखी गई।