गंगा में लगाई गई डुबकी आपको बीमार कर सकती है

In news:

गंगा को स्वच्छ बनाने के तमाम दावों और अभियानों के बीच ताजा खबर यह है कि इस नदी का पानी अब हरिद्वार में ही नहाने लायक तक नहीं रह गया है. यह जानकारी केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने सूचना का अधिकार कानून (आरटीआई) के तहत एक आवेदन के जवाब में दी है~ सीपीसीबी ने कहा है कि हरिद्वार में गंगा का पानी लगभग सभी मानकों पर विफल रहा है. 

Pollution in GANGA

GM मस्टर्ड के इस्तेमाल को रेग्युलेटर से मिली हरी झंडी

जानें, क्या होती है GM फसल और कैसे होती है तैयार

जेनेटिकली मोडिफाइड (जीएम) फसलों के मामले में भारत लंबे समय से ऊहापोह की स्थिति में है। लेकिन, अब पर्यावरण मंत्रालय की एक कमिटी ने सरसों की जीएम फसल को मंजूरी दी है और इसे सरकार से भी हरी झंडी मिल सकती है।

जीएम फसल क्या होती है और कैसे विकसित किया जाता है ..

आर्कटिक में हो रहे बदलाव के नतीजे

In news:

आर्कटिक (उत्तरी ध्रुव के आसपास स्थित क्षेत्र) की बर्फ तेजी से पिघल रही है. पिछले तीन दशक के दौरान इस इलाके की समुद्री बर्फ में आधे से भी ज्यादा की कमी आ गई है.

·         एक हालिया रिपोर्ट का अनुमान है कि इस तरह यह आर्कटिक 2040 तक बर्फविहीन हो जाएगा.

·         पहले 2070 तक ऐसा होने की बात कही गई थी.

पृथ्वी मातृ को बचाने के लिए भारत की पहल

संयुक्त राष्ट्र 22 अप्रैल को एक विशेष दिवस के रूप में पृथ्वी मातृ दिवस मनाता है। 1970 में10000 लोगों के साथ प्रारंभ किये गये इस दिवस को आज 192 देशों के एक अरब लोग मनाते  हैं। इसका बुनियादी उद्देश्य पृथ्वी की रक्षा और भविष्य में पीढ़ियों के साथ अपने संसाधनों को साझा करने के लिए मनुष्यों को उनके दायित्व के बारे में जागरूक बनाना है।

टाइगर रिज़र्व के बफर क्षेत्र से हटाई जाएंगी मानव बस्तियां

  • बाघों के निवास के नाजुक माने जा रहे क्षेत्रों या उनके रिज़र्व के मुख्य क्षेत्रों (बफर क्षेत्र) में स्थित मानव बस्तियों और वहां रहने वाले आदिवासियों को जल्दी ही दूसरी जगह स्थानांतरित किया जायेगा.
  • राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकार (एनटीसीए) ने सभी 50 टाइगर रिज़र्व को निर्देश दिया है।
  • एनटीसीए ने वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत आदिवासियों और पहाड़ी गांवों को स्थानांतरित करने की दिशा में कार्य कर रहा है।
  • एनटीसीए ने कहा है कि वन्यजीव निवास क्षेत्रों की अधिसूचना के लिए दिशानिर्देश के अभाव में बाघों के निवास क्षेत्रों में मनुष्यों के निवास का अधिकार लाग